Share Market क्या होता है कैसे इन्वेस्ट करे जाने

हेल्लो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम जानेगे की Share Market के बारे में। Share Market को Stock Market और Share Bazar भी कहा  जाता है।

Share Market क्या होता है :-

Share Market में इन्वेस्ट करने से पहले आपको शेयर मार्केट की बेसिक नॉलेज होनी चाहिए कि आखिर Share Market में होता क्या है? Share मतलब हिस्सा Market मतलब बाजार एक ऐसी जगह जहाँ पर कुछ खरीदा या बेचा जाता है तो शेयर मार्केट का मतलब है लिस्टेड कंपनी की हिस्सेदारी खरीदने और बेचने की जगह।

शेयर मार्केट एक जेन्यूइन तरीका है जहाँ पर आप कम समय में लाखों रूपया कमा सकते हैं। यह आपको खरबपति बना सकता है और रोडपति भी बना सकता है। इसका एक बहुत अच्छा उदाहरण है  वॉरन बफेट।

जब भी Share Market की बात आती है तो इनका नाम जरूर आता है। इसका रीज़न ये है की आज की डेट में ये 8 हजार 30 करोड़ $ के मालिक हैं।

अगर इनको इंडियन करेंसी में कन्वर्ट किया जाए तो ये खरबों रुपया बनता है और ये खरबों रुपया इन्होंने शेयर मार्केट से ही कमाया है। तो शेयर मार्केट आपको खरबपति बना सकता है और आपको रोड पति भी बना सकता है।

ये डिपेंड करता है आपकी स्ट्रेटेजी पर के आप Share Market को कैसे देखते हैं? अगर आप इसको एक जुआ समझेंगे तो आप इस में अंधाधुंध पैसा लगाएंगे और उसमें आपको लॉस ही होगा।

लेकिन अगर आप इसको मार्केट मानकर चलेंगे, आप इसको बाजार समझेंगे तो आप यहाँ पर किसी भी कंपनी के शेयर्स में इन्वेस्ट करने से पहले आप उसका एनालिसिस करेंगे। रिसर्च करेंगे।

आपको पहले से ही पता होगा कि वो कंपनी क्या करती है। क्या बेचती है और उसका फ्यूचर कैसा है, तो उसमें डेफिनिट्ली आपको फायदा ही होगा। जिससे शेयर में भी मैने इन्वेस्ट किया है डेफिनिट्ली वहाँ से मैने फायदा ले करके ही उसको सेल किया है।

Share Market Tips for Beginners in hindi

Stock Exchange क्या है:-

जीस जगह पर कंपनी को लिस्ट किया जाता है, उसके शेयर ख़रीदे और बेचे जाते हैं। उसको कहा जाता है। इस स्टॉक एक्स्चेंज इंडिया में मैनली दो स्टॉक एक्स्चेंज है।

NSE यानी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज जो की 1992 में इस्टैब्लिश किया गया था। nseIndia.com यहाँ पर आप किसी भी कंपनी का नाम डालेंगे, तो आपको पता चल जायेगा की वो कम्पनी लिस्टेड है या नही हैं।

दूसरा stock exchange है BSE यानि bombay stock exchange है। यह काफी पुराना स्टॉक एक्सचेंज है यह 1875 में इस्टैब्लिश किया गया था। इसको 143 से भी ज्यादा साल हो गये है।

Share Market पर किसका कण्ट्रोल है:-

शेयर मार्केट को रेग्युलेट करता है SEBI यानी securities and exchange board of india एक सरकारी एजेंसी है। पूरे मार्केट को SEBI रेग्युलेट करता है। इसका मतलब यह है कि अगर आपके साथ यहाँ कोई भी फ्रॉड होता है तो आप उसकी कंप्लेंट भी कर सकते हैं और सरकार उसमें आपकी हेल्प भी करेगी।

जैसे कि बिटकॉइन है। बिटकॉइन को कोई भी रेग्युलेट नहीं करता है। इसलिए वहाँ अगर आपके साथ कोई फ्रॉड होता है, तो आप उसकी कंप्लेंट कर सकते हैं और ना ही सरकार आपकी कुछ हेल्प करेगी।

लेकिन शेयर मार्केट में ऐसा नहीं है। शेयर मार्केट में अगर आपके साथ कोई फ्रॉड होता है तो आप उसकी कंप्लेंट भी कर सकते हैं और उसमें सरकार आपको सपोर्ट भी करेगी। आपकी हेल्प भी करेगी। क्योंकि सरकारी एजेंसी है SEBI securities and exchange board of india शेयर मार्केट को रेग्युलेट करता है।

कैसे काम करता है Share Market:-

कोई भी कंपनी जब शुरू की जाती है तो उसमें बहुत सारा पैसा लगता है। यह पैसा कंपनी के डायरेक्टर्स नहीं लगा सकते। इसलिए वो कंपनी को स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट कर देते हैं।

जहाँ से उसके लाखों शेयर जारी कर दिए जाते हैं पब्लिक उस कंपनी के शेयर को खरीद लेती है जिससे कंपनी को पैसा और पब्लिक को शेर मिल जाते है फॉर एग्ज़ैम्पल अगर कोई कंपनी 1,00,000 शेयर जारी करती है तो उसमें से अगर आप 1000 शेर परचेस कर लेते हैं तो आप उतने हिस्से के कंपनी के मालिक बन जाते हैं।

फिर इन शेयर को आप जीतने टाइम के लिए चाहे होल्ड करके रख सकते हैं । और जब चाहे आप इनको बैठ सकते हैं। एक बार शेयर खरीदने के बाद अगर कंपनी को प्रॉफिट होता है, कंपनी जो भी सर्विस प्रोवाइड करती है या प्रोडक्ट्स सेल करती है, उसमें उसको मुनाफा होता है। यह कोई बड़ी डील कंपनी कर लेती है तो इससे कंपनी के शेयर के प्राइस बढ़ जाते हैं,

 जिससे आपके पास जो शेयर है। जो अपने ख़रीदे हुए हैं। उनके प्राइस भी बढ़ जाते हैं, इससे आपको फायदा होता है। वहीं अगर आपने किसी कंपनी के शेयर परचेस किए उसके बाद कंपनी को नुकसान हुआ।

कहीं पर कोई घाटा हो गया। कोई डील होने वाली थी वो नहीं हुई या फिर कोई और प्रॉब्लम कंपनी में आ गई तो उससे उसके शेयर की प्राइस गिर जाते हैं तो आपके पास जो शेयर से उस कंपनी के उनका प्राइस भी गिर जाएगा। इससे आपको लॉस होगा।

जैसे कि रिलायंस इंडस्ट्रीज एक महीने पहले इसके एक शेयर का प्राइस था । ₹1600, लेकिन आज की डेट में इसके शेयर प्राइस है 2100 क्योंकि रिलायंस में फेसबुक, गूगल और की सारी कम्पनी में इन्वेस्ट किया है।

तो इसे एक पॉज़िटिव पॉइंट माना गया और कंपनी के शेयर के प्राइस बढ़ गए हैं। तो जिन लोगों ने भी रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर परचेस किए थे।  उन्हें काफी फायदा हुआ है।

दूसरा एग्जाम्पल है यस बैंक। यस बैंक ने काफी लोन प्रोवाइड किए और NPA हो गया। मतलब के लोन की रिकवरी नहीं हुई। बैंक को बहुत लॉस हुआ तो जहाँ पर इसके शेयर प्राइस था ₹420 तो ये शेर का प्राइस कुछ टाइम में ₹12 पर शेयर प्राइस आ गया था। आज की डेट में इसके शेयर प्राइस है ₹17 अब ये तो बात हुई कि शेयर मार्केट क्या होता है, कैसे काम करता है।

Share Market से Share कैसे ख़रीदे:-

अब बात आती है कि शेयर मार्केट से शेर कैसे ख़रीदे जाते हैं। कंपनी को स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट कर दिया जाता है जहाँ से इसके शेयर ख़रीदे और बेचे जाते हैं। लेकिन आप डाइरेक्ट स्टॉक एक्सचेंज से शेयर खरीद। और बेच नहीं सकते बल्कि इसके लिए आपको जरूरत पड़ेगी एक ब्रोकर की पहली टाइम में स्टॉक ब्रोकर्स के ओफिस होते थे।

शॉप होती थी वहाँ पर आपको जाना होता था। अकाउन्ट ओपन करने के लिए और वही आपको उनको बताना होता था कि शेयर  में पैसा इन्वेस्ट करो और इसको बेच दो।

लेकिन आज के टाइम में ब्रोकर्स ऑनलाइन भी हो चूके हैं। और ऑफलाइन में आपको इनके ऑफिस भी मिल जाएंगे। जैसे कि ऐंजल ब्रोकिंग, जेरोधा एक्स्ट्रा तो आप डाइरेक्ट स्टॉक्स से शेयर खरीद और बेच नहीं सकते।

बल्कि आपको किसी ब्रोकर की हेल्प लेनी होगी। और ब्रोकर के थ्रू आपको एक डीमैट अकाउंट ओपन करना पड़ेगा। डीमेट अकाउंट एक अकाउंट होता है। जैसे आप बैंक में सेविंग, करंट अकाउंट ओपन कराते हैं। वैसे एक डीमेट अकाउंट ओपन कराया जाता है।

जैसे की आप सेविंग और करंट अकाउन्ट में पैसे रखते हैं। वैसे ही डीमेट अकाउंट में शेयर रखे जाते हैं। तो डीमेट अकाउंट ओपन कराया जाता है। किसी ब्रोकर के द्वारा एक बार आप डीमेट अकाउंट ओपन करा लेते है। तो आप डाइरेक्ट शेर परचेस कर सकते हैं और सेल कर सकते हैं।

 जैसे आप परचेस करेंगे तो आप उनको अपने डीमेट अकाउन्ट में होल्ड करके रख सकते हैं। जब आप उनको सेल करेंगे तो आप डाइरेक्ट अपने डीमेट अकाउंट से उनको सेल करें। सकते हैं

इसके बाद पैसा आप अपने बैंक अकाउन्ट में विड्रॉ कर सकते हैं। मार्केट में काफी सारे ब्रोकर्स है। जिनके थ्रू आप डीमेट अकाउंट ओपन करके शेयर मार्केट में इन्वेस्ट कर सकते हैं।

लेकिन इंडिया के मार्केट में  दो ब्रोकर्स काफी अच्छे है। एक है एंजल ब्रोकिंग और एक है जेरोधा , एंजल ब्रोकिंग मार्केट में काफी पुराना है। पिछले 30 साल से भी ज्यादा से ये मार्केट में है और जीरोधा 2010 से मार्केट में हैं। दोनों ही बेस्ट ब्रोकर्स है और ट्रस्टेड है।

एंजल ब्रोकिंग में अकाउन्ट ओपन करना बिल्कुल फ्री है। फर्स्ट ईयर आपसे कोई चार्ज नहीं लिया जाएगा। जबकि जिरोधा में अकाउन्ट ओपन करने के लिए फर्स्ट ईयर से ही आप से ₹300 चार्ज लिया जाएगा।  

इक्विटी डिलीवरी दोनों में बिल्कुल फ्री है। आपसे कोई बरोकरेज नहीं ली जाएगी। मतलब की अगर आप शेयर खरीदते हैं और बेचते हैं। तो आप से कोई चार्ज नहीं लिया जाएगा,

जबकि इंट्राडे के लिए ₹20 पर डर चार्ज लिया जाएगा। मतलब की अगर आप सुबह में शेयर खरीद के शाम में बेच देते हैं तो इसको कहा जाता है इंट्राडे। इसमें आपको ₹20 पर आर्डर चार्ज देना होता है।

Angel Broking में अकाउंट कैसे बनाये :-

डीमेट अकाउंट ओपन करने के लिए आप यह विडियो देखे।

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने सिखा है। की आप Share Market क्या होता है? इसमे share कैसे खरीदते व् बेचते है और इसके साथ ही हमने जाना है। की एंजल ब्रोकिंग में एकाउन्ट ओपन करने का क्या प्रोसेस है तो दोस्तों आज का यह आर्टिकल कैसा लगा ? और आपका कोई प्रशन या सुझाव हो तो वो कमेंट करके जरुर बताना।धन्यवाद

Leave a Comment