NSE & BSE का Stock Market में क्या मतलब है

दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में हम जानने वाले हैं कि NSE & BSE क्या है। Stock Market में इनका क्या महत्व रहता है।

NSE & BSE क्या है ?

दोस्तों NSE & BSE भारत के दो बड़े स्टॉक एक्सचेंज (stock exchange) कंपनी है। आपको नाम से ही पता चल गया होगा जहा पे स्टॉक्स की लेनदेन होती है उसे स्टॉक एक्सचेंज कहते हैं। एक्स्चेन्ज का काम यही होता है कि सेलर से शेयर लेकर बायर को देना, एक्सचेंज प्लेटफोर्म का मतलब माध्यम का काम करता है।

2016 तक के आंकड़ों से भारत में कुल 23 स्टॉक एक्सचेंज है, जैसे कि कोलकाता स्टॉक एक्सचेंज, चेन्नई स्टॉक एक्सचेंज जयपुर स्टॉप थे, लेकिन NSE & BSE में भारत की सबसे ज्यादा ट्रेडिग होती है।

NSE क्या है?

NSE का फुल फॉर्म नेशनल स्टॉक एक्सचेंज( National Stock Exchange) NSE की स्थापना 1992 में हुई जहाँ पे ट्रेनिंग का सारा प्रोसेसर कंप्यूटराइज कर दिया गया।

BSE क्या है?

BSE का फुल फॉर्म बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (Bombay Stock Exchange ). BSE की स्थापना 1875 में प्रेमचंद रॉयचंद ने की थी। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज एशिया में सबसे पहला और पुराने स्टॉक एक्सचेंज है।

stock exchange पहले कैसे काम करता था

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज एशिया में सबसे पहला और पुराने स्टॉक एक्सचेंज है। पुराने जमाने मेँ एक जगह तय की जाती थी, जहा पे सारे ट्रेडर्स जमा हो जाते थे और वहाँ पे शेयर की खरीद बिक्री होती थी। फिर NSE ने आकर ट्रेडिंग करने का सारा प्रोसेसर कंप्यूटराइज कर दिया गया। पहले शेयर की खरीदी व् बिक्री में बहुत टाइम जाता था। छह छह महीने लगते थे, लेकिन एनएसी के आने के बाद कुछ ही मिनटों में शेयर की खरीदी व् बिक्री होने लगी। ऐसा कहा जाता है कि पहले बीएसपी ने कंप्यूटराइज होने से मना किया था, लेकिन 1995 में बीएसपी कंप्यूटराइज हो गई।

NSE & BSE को कोन कण्ट्रोल करता है?

एनओसी और बीएसपी दोनों को SEBI के नियम लागू हैं। SEBI का मतलब सिक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया। SEBI की स्थापना गवर्नमेंट ऑफ इंडिया ने की थी। स्टॉक मार्केट में कुछ गलत चीजें होने लगी थी,

 इसलिए गवर्नमेंट ने उसे रोकने के लिए सेबी की स्थापना की। बैंको के लिए आरबीआई है। वैसे स्टॉक एक्सचेंज के लिए SEBI  है। बीएसई में कुल 5000 से ज्यादा कंपनी रजिस्टर्ड है और एन एस में 1600 से ज्यादा कंपनी रजिस्टर्ड है।

अब हम BSE और NSE का मार्केट कैपिटलाइजेशन समझते हैं। मार्केट कैपिटलाइजेशन मतलब BSE और NSE में लिस्टेड सारे कंपनी के शेयर का कुल मिलाके वैल्यूएशन। जुलाई 2017 के अनुसार BSE का मार्केट कैपिटलाइजेशन 2 ट्रिलियन डॉलर और NSE का 1.41 ट्रिलियन डॉलर है।

दोस्तों आज का यह आर्टिकल कैसा लगा ? और आपको कोई प्रशन या सुझाव है तो आप हमें कमेंट करके जरुर बतना धन्यवाद।

Leave a Comment