Mutual Funds Explain in Hindi

हेल्लो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम जानेगे की Mutual Funds क्या होता है और इसमे कैसे इन्वेस्ट करे अपनी आसान भाषा हिंदी में तो चलिए शुरू करते है।

क्या आपने कभी Mutual Funds के बारे में सुना है की आपको पता है कि Mutual Funds क्या होता है? अगर आपको नहीं पता है आज के इस आर्टिकल को पड़ने के बाद पता चल जायेगा।

Mutual Funds पैसा कमाने का एक बहुत अच्छा और बहुत ही आसान तरीका है। इसमें इन्वेस्ट करने के लिए आपके पास हजारों रुपए हो ऐसा जरूरी नहीं है। आप सिर्फ ₹500 पर मंथ भी इसमें इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं।

 बहुत से लोग Mutual Funds और शेयर मार्केट को एक ही समझते हैं, जबकि ऐसा नहीं है। Mutual Funds और शेयर मार्केट दोनों ही मार्केट का हिस्सा है।

 लेकिन इन दोनों में बहुत बड़ा फर्क है जहाँ शेयर मार्केट में बहुत ही फायदा हो सकता है उसके साथ उसमें रिस्क भी बहुत ज्यादा होता है। जबकि म्यूचुअल फंड में बेनिफिट तो ज्यादा होते हैं, लेकिन रिस्क शेयर मार्केट के मुकाबले में कम होता है।

Mutual Funds क्या होता है:-

सबसे पहले हम बात करते हैं कि म्यूचुअल फंड होता क्या है? म्यूचुअल फंड जैसे कि नाम से पता चलता है की ये क्या होता है, ये ऐसा फंड होता है, जिसमें बहुत सारे इन्वेस्टर्स का पैसा म्यूचुअल रूप से रखा जाता है। इस ग्रुप मनी को सबसे ज्यादा पॉसिबल मुनाफा अर्ण करने के लिए मैनेज किया जाता है।

अगर मैं आसान भाषा में आपको बताऊँ तो म्यूचुअल फंड बहुत सारे लोगों के पैसे से बना हुआ एक फंड होता है जिसमे लगाया गया पैसा अलग अलग जगहों पर इन्वेस्टमेंट करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है और कोशिशे की जाती है कि इन्वेस्टर्स को उनकी रकम का ज्यादा से ज्यादा मुनाफा दिया जाए।

फंड को मैनेज करने का काम है प्रोफेशनल के द्वारा किया जाता है, जिसकों प्रोफेशनल फंड मैनेजर कहा जाता है। प्रोफेशनल फंड मैनेजर का काम म्यूचुअल फंड की देखरेख करना और फंड के पैसों को सही जगह पर लगा करके ज्यादा मुनाफा करना होता है।

अगर मैं आपको आसानी से लैंग्वेज में बताऊँ तो प्रोफेशनल फंड मैनेजर का काम लोगों के लगाए गए पैसे को मुनाफ़े में बदलना होता है। म्यूचुअल फंड से भी यानी सिक्योरिटी ऐंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया के अंदर रजिस्टर्ड है जो कि भारत में बाजार को कंट्रोल करने का काम करता है।

इन्वेस्टर्स के पैसे को बाजार में सिक्योर रखने का काम से भी का होता है। सेबी के द्वारा यह सुनिश्चित किया जाता है कि कहीं कोई कंपनी लोगों के साथ धोखा तो नहीं कर रही है, इसलिए Mutual Funds में धोखे का बहुत कम रिस्क होता है।

म्यूचुअल फंड भारत में काफी लंबे समय से मौजूद है, लेकिन इसके बारे में लोगों को ज्यादा जानकारी नहीं थी। शुरुआती समय में लोगों की धारणा बन गई थी। लोग ये सोचते थे कि Mutual Funds सिर्फ अमीर लोगों के लिए होता है, जबकि आजकल ये धारणा बदल रही है और लोगों का म्यूचुअल फंड की तरफ रुझान बढ़ रहा है।

आज के समय में म्यूचुअल फंड सिर्फ अमीर लोगों के लिए नहीं है, बल्कि कोई भी पर्सन ₹500 पर मंथ इसमें मैं पेमेंट कर सकता है। Mutual Funds में इन्वेस्टमेंट के लिए मिनिमम अमाउंट ₹500 होता है यानी कोई भी पर्सन ₹500 पर मंथ के हिसाब से म्यूचुअल फंड में इन्वेस्टमेंट कर सकता है।

Mutual Funds के फायदे:-

  1. सबसे पहला फायदा है प्रोफेशनल मैनेजमेंट आपके द्वारा म्यूचुअल फंड में लगाया गया पैसा Mutual Funds एक्सपर्ट  द्वारा उनके एक्सपीरियंस और उनके हुनर के साथ मैनेज किया जाता है।

ये पैसा लगाने से पहले जिसे फंड में पैसा लगाते हैं उसकी पूरी तरह से रिसर्च करके जानकारी जुटा ली जाती है। अगर उसके बाद उनके द्वारा जुटाई गई जानकारी के अनुसार आपके पैसे में बढ़ोतरी होती है तो ये इन्वेस्टमेंट करते हैं।

2. म्यूचुअल फंड का दूसरा फायदा है डाइवर्सिफिकेशन सेफ इन्वेस्टमेंट का मूल मंत्र है कि अपने पैसे को एक जगह लगाकरके बहुत सारी जगह पर बात दो और कई सारी जगहों पर इन्वेस्टमेंट करो, हर म्यूचुअल फंड पैसे को अलग अलग जगहों पर इन्वेस्ट करता है।

अच्छे फंड में न केवल दूसरी कंपनी बल्कि दूसरे सेक्टर ये शायद अलग साइज की कंपनी में भी इन्वेस्टमेंट किया जा सकता है। जिससे इनवेस्टर्स को बहुत ज्यादा सिक्योरिटी मीलती है।

 3. म्यूचुअल फंड का तीसरा फायदा है वैराइटी म्यूचुअल फंड में आज हर तरह के लोगों के लिए कुछ न कुछ जरूर है। ज्यादा रिटर्न की चाह रखने वालों के लिए ज्यादा रिटर्न वाले और ज्यादा सिक्योर इन्वेस्टमेंट की चाह रखने वालों के लिए ज्यादा सिक्योर फंड से लेकर के हर तरह के फंड यहाँ पर मौजूद होते हैं।

अगर आप किसी भी तरह के इन्वेस्टमेंट की इच्छा रखते हैं तो मुमकिन है कि आप के लिए कोई ना कोई म्यूचुअल फंड जरूर बना होगा जो कि आप की जरूरत के हिसाब से होगा।

4. म्यूचुअल फंड का चौथा फायदा है कन्विन्स यानी सुविधा। आप बड़ी ही आसानी से म्यूचुअल फंड में इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं। उतनी ही आसानी से आप फंड पैसे भी निकाल सकते हैं इन्वेस्टमेंट करने के लिए आपको फॉर्म भरना होता है जो कि आप ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों जगहों पर कहीं भी भर सकते हैं।

इसके बाद आप ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों ही तरीकों से फंड बेच सकते हैं या खरीद सकते हैं। म्यूचुअल फंड में काफी और ऑप्शनस होने के साथ साथ काफी ज्यादा सुविधाएं भी होती है।

 5. म्यूचुअल फंड का पांचवां फायदा है अफोर्डेबल यानी ये सस्ता होता है। बड़ी कंपनियों के शेयर की कीमत काफी ज्यादा होती है। बहुत बार आप उन कंपनी में अगर पैसा लगाना भी चाहे तो आपका बजट कम होने की वजह से आप ऐसा नहीं कर पाते। जबकि म्यूचुअल फंड में बहुत सारे लोगों का पैसा एक साथ होता है।

तो आपके पैसे से बड़ी बड़ी कंपनियों में इन्वेस्टमेंट किया जाता है और आपका पैसा वहाँ पर ज्यादा मुनाफा कमाता है। म्यूचुअल फंड न केवल बड़े बल्कि छोटे इन्वेस्टर्स को भी बड़ी बड़ी कंपनियों में म्यूचुअल फंड के जरिए इन्वेस्टमेंट करने का एक अच्छा रास्ता है।

6. म्यूचुअल फंड का छठा फायदा है टैक्स बेनिफिट। जब भी आप शेयर बाज़ार में इन्वेस्टमेंट करते हैं तो आपको शेयर खरीदने या बेचने के लिए टैक्स देना पड़ता है। लेकिन म्यूचुअल फंड में आपको टैक्स पर छूट मीलती है।

कुछ फंड में आपको अपने मुनाफ़े पर कुछ टाइम पीरियड तक कोई टैक्स नहीं भरना पड़ता है। टैक्स में मिलने वाली छूट भी एक वजह होती है जिससे कि म्यूचुअल फंड आज कल काफी फेमस होते जा रहे हैं।

यह आर्टिकल कैसा लगा कमेट करके जरुर बताना धन्यवाद ।

Leave a Comment