Credit Card क्या है फायदे और नुकसान भी जाने

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम बात करेंगे Credit Card क्या होता है? क्रेडिट कार्ड के क्या फायदे हैं, क्या नुकसान है, कैसे मिलता है, किन को मिलता है।

Credit Card क्या है ?

तो सबसे पहले हमें यह समझना पड़ेगा। ये क्रेडिट कार्ड होता क्या है? तो देखिए नाम में ज़ाहिर हो रहा है। Credit मतलब की लोन Card यानी की एक ऐसा Card जो Loan पे मिला हुआ है। ये एक तरह के प्लास्टिक मनी है। अब सबसे बड़ी बात यह है कि भाई जब Debit Card था। तो Credit Card की जरूरत क्यों पड़ी ?

Debit Card और Credit Card में अंतर जाने

Debit Card हमारे किसी Bank Account से लिंक होता है। यानी की आपने  किसी Bank में अपना Account खुलवा रखा हैं। उसमें आपने पैसे जमा करा रखा है। तो वहाँ से लिंक होगा। आपका डेबिट कार्ड।

इसको हम ATM बोलते हैं और जब एटीएम से कुछ हम शॉपिंग कर है, ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करें या एटीएम से पैसा निकाले तो जितना पैसा हमने निकाला या कहीं खर्च किया। उसी समय हमारे बैंक से कट जाता है ।

यानी हमारे बैंक में जितना पैसा है हम उतना इस्तेमाल करें और हाथोंहाथ वो कट जाएगा। परन्तु  Credit Card में ऐसा नहीं होता। Credit Card में एक लिमिट सेट की जाती है। तो जीतने आपके क्रेडिट कार्ड की लिमिट है। उस लिमिट तक ही आप ऑनलाइन शॉपिंग कर सकते है। आप कैश भी निकाल सकते हैं।

ATM से आप कहीं भी उसको और Online Payment के लिए काम में ले सकते हैं। अब क्या होगा की ये जो पैसा है इसको देना नहीं है, हमने भी Bank को दिया क्योंकि उधार है ना? ये पैसा क्या होगा जब आप एक महीने बाद इसका Bill जेनरेट होगा और बिल जेनरेट जब होगा तो बिल आपके Net Banking में आपको मिल जाएगा।

या आपके घर पे आ जाएगा जो आपने परमानेंट अड्रेस दिया है। बिल को भरने के लिए भी आपको 20 दिन के आसपास का टाइम मिलेगा। यानी की आज हमने पैसा खर्च कर दिया और हमें चुकाना है। 50 दिन के अंदर है तो ये होता है क्रेडिट कार्ड।

अब बात करते Credit Card किन किन को मिलता है तो देखिए भाई अगर आप सैलरी आती है यानी कोई काम करते हैं, आपको सैलरी आती है या फिर आपको बिज़नेस करते है। आप पैसा कमाते हैं, ठीक हैं तो आपको भी क्रेडिट कार्ड मिल जाएगा।

अब अगर आप एक स्टूडेंट है, ठीक है, स्टूडेंट है या फिर कुछ काम नहीं करते। या कुछ ऐसा काम है। जिसे आप प्रूफ नही कर पा रहे हो या इनकम प्रूफ नहीं कर पा रहे। उन को भी मिल सकता है पर उसके लिए बैंक में आपको FD होनी जरुरी है।

अब बात करते कैसे मिलता है? तो? लेकिन Offline भी आप किसी भी शाखा में जाके ले सकते हैं। किसी Bank शाखा में या आप उसकी जो Online Website वहाँ से भी Apply कर सकते हैं, आप से Document मांगे Document दे दोगे तो आपने जो परमानेंट दिया वहाँ पे आपका क्रेडिट कार्ड आपको मिल जाएगा।

Credit Card Kya hai

Credit Card के फायदे:-

अब बात करते हैं कि क्रेडिट कार्ड के बेनिफिट क्या है, तो पहला बेनिफिट कि Credit Card से जब हम Payment करते है किसी शॉप पे जाकर या किसी शोरूम पे जाकर तो हमें कई तरह की छूट मीलती है।

उदाहरण के लिए, आपने AC खरीदना है तो आप AC खरीदने जब जाओगे तो आप पूछोगे सर कोई छूट वगैरह है तो आपसे एक बात पूछा कि आपका मोड ऑफ Payment क्या है और आपने कहा की सर हमारे पास क्रेडिट कार्ड, तो आपसे कहेगा की ठीक है, आप पेमेंट कर दीजिए।

इससे आपको EMI ऑप्शन मिल जाएगा। बिना किसी इन्ट्रेस्ट के, यानी आप EMI से भी पेमेंट कर सकते हैं। AC  अपने घर पे ले लिया आपको कई तरह की छूट मिलेंगे। कई तरह के पॉइंट भी आपको मिल जाते हैं तो एक तो ये बेनिफिट है।

दूसरा जब आप Online Shopping करते हैं तो वहाँ भी आपको कई तरह के एक्स्ट्रा रिवॉर्ड पॉइंट मिलते हैं और कई जगह इसमें छूट भी मीलती है। आपने देखा होगा कई बार Flipkart & Amazon इन पर लिखा होता है।

इस बैंक अगर आप क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करेंगे तो आपको 10% छूट मिलेगी या 5% छूट मिलेगी तो एक तो बेनिफिट यही है।दूसरा हमें कैश कहीं लेके नहीं जाना पड़ता जेब में एक प्लास्टिक कार्ड पड़ा उससे हम कहीं भी पेमेंट कर सकते हैं।

एक बेनिफिट ये है की मान लो कभी बहुत ज्यादा अर्जंट में पैसे की जरूरत पड़ी और आप हमारी थिंकिंग हम किसी से पैसे मांगते नहीं है। तो हम इसमें एटीएम से पैसा भी निकाल सकते एटीएम में जाएं क्रेडिट कार्ड से कैश निकाल सकते, लेकिन उसका नुकसान होता है। वो भी मैं आपको आगे बताओ?

तो इस तरह से क्रेडिट कार्ड बेनिफिशियल है कोई दिक्कत नहीं है आप क्रेडिट कार्ड यूज़ करे, आपको कभी भी कोई प्रॉब्लम नहीं आएगी। बल्कि क्रेडिट कार्ड का अच्छा रहता है।

क्रेडिट कार्ड के नुकसान जाने ?

अब बात करते हैं फिर उसके डिसएडवांटेज क्या है। अगर आप कभी एटीएम से कैश निकालकर खर्च कर देते हैं तो हमेशा ध्यान रखना। जब आप कैसे निकालेंगे उसी दिन से आपके ऊपर जो है, पेनल्टी बैंक लगाना स्टार्ट कर देगा। यानी की वो आपको महंगा पड़ सकता है।

पहला तो ये एक डिसएडवांटेज तो कभी भी आप इस तरह से कैश न निकालें, इससे सिर्फ शॉपिंग करे। अब शॉपिंग करते हैं वहाँ पे क्या नुकसान है तो वहाँ पे आपको नुकसान रहता हूँ वहाँ पे नुकसान यह है कि अगर आप लापरवाह भुलक्कड़ है यानी की आपके बिल आ गया और बिल आपको टाइम टु टाइम पे करने की आदत नहीं है।

आप भूल जाते हैं तो ये मोटी पलटी लगता है। बैंक में तो वहाँ आपको दिक्कत आ सकती है लेकिन अगर आप रेग्युलर बिल पे करेंगे टाइम तो टाइम तो आपको कभी कोई प्रॉब्लम नहीं आएगी। ओके अब बात करते हैं कि भाई इसका कोई चार्ज लगता है तो देखिए ऐसा है की जब भी आप इश्यू करवाएंगे, किसी बैंक से क्रेडिट कार्ड इसके ऐनुअल फीस आपको वहाँ पर देनी पड़ती है।

हालांकि कई ऐसे बैंक हैं कई ऐसे बैंक होते है जो फ्री में देते है पर  उनका कुछ सिस्टम होता है कि आप इतने ₹  की शॉपिंग इतने महीने में कर लेंगे, तो आपको कोई भी फ़ीस या चार्ज नही देना होगा।

जब भी आप किसी बैंक का क्रेडिट कार्ड ले रहे तो पहले गूगल पर जाये और क्रेडिट कार्ड कंपेर लिखेंगे तो बहुत सारी वेबसाइट्स ऐसी ओपन हो जाएंगे जो क्रेडिट कार्ड को कंपेर करेंगे।

तो आप सारे के सारे टर्म कंडिशन पढ़ लें, क्योंकि आजकल बहुत सारी कम्पनी आपको क्रेडिट कार्ड देने के चक्कर में नए नए लुभावने लुभावने ऑफर भी लाती रहती है, तो आप पहले पूरी तरह से पढ़ लें और क्रेडिट कार्ड को तभी इस्तेमाल करें,

अब  यहाँ पर एक और नुकसान है। क्रेडिट कार्ड को बता देता हूँ अगर क्रेडिट कार्ड खो जाए तो सबसे बड़ा नुकसान है कि जैसे मान लो क्रेडिट कार्ड आपका खो गया और किसी ने वहा पे नेशनल पेमेंट करने की कोशीश की, तब तो भैया आपके मोबाइल पर ओटीपी आता है, तो नहीं कर पाएगा।

लेकिन अगर किसी ने इंटरनेशनल पेमेंट कर दिया तो ओटीपी नहीं आता है। हमेशा ध्यान रखें अगर कोई क्रेडिट कार्ड आपक हो गया, किसी को मिल गया, उसने क्रेडिट कार्ड से इंटरनेशनल पेमेंट नहीं किया तो आपके मोबाइल पर ओटीपी नहीं आएगा।

उसको बस कार्ड नंबर , पीछे का सीवीवी नंबर डालना पड़ेगा । और उसका पेमेंट हो जाएगा तो ये बहुत बड़ा नुकसान है तो कार्ड को बहुत के रखना पड़ता है। अगर खो जाए तो उसे तुरंत के तुरंत ब्लॉक करना पड़ता है तो ये उसके कुछ नुकसान थे। फायदे मैने आपको बता दें कि काफी डिस्काउंट आपको मिलेगा। जब भी आप होटल बुक करोगे। ऑनलाइन शॉपिंग करोगे या फिर किसी शोरूम से जाके भी सामान खरीदो और क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करोगे तब ।

Credit Card लिमिट:-

अब बात करते इसकी लिमिट की लिमिट हमें कैसे मिलेंगे? तो देखो ऐसा है आपकी सैलरी कितनी है, इसपे डिपेंड करता है। आप कितना पैसा कमाते हो आपकी अर्निंग पर डिपेंड करता है। या फिर अगर आप उस केस में लेते हैं।

अपनी वाले, तो आपने एफडी कितने रुपये कराई है, उस पर ये डिपेंड करता है। फिर बैंक का एक पूरा एक गणित का फॉर्मूला गणित के फॉर्मूले के हिसाब से जो आपकी लिमिट सेट की जाती है,

दूसरी बात आप जब पहली बार क्रेडिट कार्ड लेते तो आपको लिमिट कम मीलती है। लेकिन जैसे जैसे आप उसको रेगुलर यूज़ करते हो, टाइम पेमेंट पेमेंट देते रहते हैं तो धीरे धीरे टाइम के हिसाब से जो आपकी जो लिमिट है ।

वो इन्क्रीज़ भी होती जाती है। तो मुझे लगता है। कि क्रेडिट कार्ड के बारे में ये सारी बातें ही बताने लायक थी। और भी बहुत सारी बाते हो सकती है लेकिन वो मुझे नहीं लगता कि बताने लायक फिर भी आपके दिमाग में कुछ सवाल है तो आप मुझसे पूछ सकते हैं। कंमेंट में मैं आपको बता दूंगा।

Leave a Comment