जाने 5 जरुरी बाते Credit Card लेने से पहले

हेल्लो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम Credit Card लेने से पहले किन 5 बातो का ध्यान रखना चाहिए।  यह जानने के लिए इस आर्टिकल को पड़े।

Credit Card का इस्तेमाल: –

भारत में क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल काफी तेजी से बढ़ता जा रहा है, चाहे हम ऑनलाइन शॉपिंग करनी हो या रिटेल स्टोर से खरीदारी। रेस्टोरेंट से लेकर मूवी तक की टिकट के लिए हम लोग ज्यादातर क्रेडिट कार्ड का ही इस्तेमाल करते हैं।

अगर आपके पास क्रेडिट कार्ड नहीं है तो क्रेडिट कार्ड लेने के लिए आपके पास फ़ोन कॉल्स या फिर ईमेल वगैरह आते रहते होंगे और अगर आपके पास क्रेडिट कार्ड है तो दूसरी कम्पनी के कारण अपनी कंपनी के अडिशनल कार्ड जैसे लुभावने ऑफर भी आपको मिलते ही रहते होंगे,

लेकिन बैंक कई बार क्रेडिट कार्ड से जुड़ी हुई कुछ इम्पोर्टर्स बाते आपसे छुपा जाते है। इन्ही के बारे में बात करने वाले हैं। जो बैंक सबसे छुपा जाते हैं, लेकिन आपको खुद ही उन चीजों का ध्यान रखना चाहिए तो चलिए शुरू करते हैं।

5 जरूरी बाते जाने Credit Card लेने से पहले

नंबर एक फ्री EMI स्कीम की शर्तें अक्सर बैंक अपने प्रिविलेज कस्टमर्स को फ्री ई या फिर क्रेडिट कार्ड पर 0% पर ये EMI का वादा करते हैं, लेकिन बैंक शायद ही आपको 0 EMI से जुड़ी हुई शर्तें पढ़ने या समझने का समय देते है।

आपको मालूम होना चाहिए कि 0% ब्याज पर EMI पर नियम और शर्तें लागू होती है और अगर आप किसी भी एक शर्त का वैल्यूएशन करते हैं तो आपको 510 नहीं बल्कि पूरे 20% से भी ज्यादा ब्याज चुकाना पड़ सकता है।

नंबर दो क्रेडिट कार्ड कौनसे जब भी आप क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो आपको कुछ पॉइंट्स मिलते हैं जिन्हें आप रिडीम कर के कैशबैक ले सकते हैं।

बैंक बैंक आपको कभी खुद से नहीं बताते हैं कि आप पॉइंट्स को कैसे रिडीम कर सकते हैं? ऐसे ही जानकारी न होने की वजह से आपके लाखों पॉइंट ऐसे ही पड़े रह जाते हैं और आपका क्रेडिट कार्ड एक्सपाइर हो जाता है।

इसके अलावा जब आपके पॉइंट्स 1000 से 10,000 जैसे **** मार्क को क्रॉस करते हैं तब भी बैंक से आपको नहीं बताते हैं कि आप के इतने पॉइंट्स हो गए हैं और आप इनको कैसे रिडीम कर सकते हैं।

नंबर तीन क्रेडिट कार्ड की ड्यू डेट आपने अक्सर देखा होगा की अगर आपको मोबाइल फ़ोन का बिल भरना है तो टेलीकॉम कंपनियां आपको लगातार ऐसे में भेजती रहती है।

यहाँ तक कि कॉल भी करती है और बैंक भी आपको मिनिमम बैलेंस के लिए रिमाइंडर भेजते रहते हैं, लेकिन क्रेडिट कार्ड का बिल जमा करने के लिए आपके पास ना तो कोई SMS आता है, ना ही कोई कॉल आता है। हकीकत में देखा जाए तो बैंक खुद ही नहीं चाहते कि आप टाइम पर उनका बिल पे करें।

 इसलिए आपको last Date का खुद ही ध्यान रखना चाहिए और टाइम पर बिल पे करना चाहिए। बैंक तो यही चाहते है की आप लेट करे और वो आपसे पेनल्टी चार्ज करे।

नंबर चार फ्री में क्रेडिट कार्ड को अपग्रेड करने की ऐनुअल फीस बैंक से आपको अक्सर क्रेडिट कार्ड अपग्रेड करने का ऑफर देते रहते हैं।

अकसर बैंक के एग्जिक्यूटिव आपको फ्री ऑफ कॉस्ट, अपने सिल्वर कार्ड, गोल्ड में गोल्ड को प्लेटिनम में अपग्रेड करवाने का लालच देते रहते हैं, लेकिन आपको यह नहीं बताते हैं कि नए क्रेडिट कार्ड के लिए आपको ₹500 से लेकर ₹700 तक का वार्षिक शुल्क भी देना पड़ेगा।

नंबर पांच क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढ़ने पर ऐनुअल फीस क्रेडिट कार्ड होल्डर्स को अक्सर कॉल्स आती रहती है कि आपके क्रेडिट कार्ड की क्रेडिट लिमिट मुफ्त में बढ़ाई जा रही है।

बैंक आपको प्रीवियस कस्टमर मानते हुए आपकी लिमिट को दोगुना या फिर इससे ज्यादा बढ़ा रहा है। यहाँ आपसे आपकी सहमति भी नहीं मांगी जाती है,

लेकिन बैंक से आपको कभी ये नहीं बताते हैं कि इसके बाद से आपकी ऐन्युअल फीसदी बढ़ जाएगी। जैसे जैसे आपके क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढ़ती जाती है वैसे वैसे ही आपकी ऐन्यूअल फीस भी बढ़ती जाती है।

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने जाना की Credit Card लेने से पहले पांच ऐसी चीजे जाननी है जो बैंक आपको  कभी भी नहीं बताते हैं इसलिए आपको खुद से ही इन चीजों का ध्यान रखना चाहिए ताकि आप क्रेडिट कार्ड का सही से इस्तेमाल कर सके और किसी भी नुकसान से आप बच  सके।

Leave a Comment